Thursday, April 18, 2024
uttarakhandekta
Homeउत्तर प्रदेशMulayam Singh Yadav से अमिताव बच्चन की गहरी दोस्ती थी यह एक...

Mulayam Singh Yadav से अमिताव बच्चन की गहरी दोस्ती थी यह एक मिसाल भी बनी ,जया बच्चन एक ही थाली में ही अब तक रही राजयसभा सांसद

और जब कभी एक बार नेता जी सभी काम छोड़ बिग बी के घर पहुंच गए थे

Mulayam Singh Yadav Died: बैसे तो मुलायम सिंह यादव की अमिताभ बच्‍चन के साथ गहरी मित्रता के कई चर्चित किस्‍से रहे हैं, मगर एक वाकये से बखूबी समझा जा सकता है कि एक दूसरे के लिए वो क्‍या रहे

Mulayam Singh Yadav Amitabh Bachchan Relation: दोस्तों उत्तरप्रदेश की राजनीतिक क्षेत्र से आज बेहद दुखद खबर सामने भी आई है. यूपी के पूर्व मुख्‍यमंत्री और समाजवादी पार्टी के संस्‍थापक रहे स्वर्गीय मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) अब इस दुनिया में नहीं रहे. पूरे देश के लिए यह एक बड़ी क्षति है. वैसे सभी जानते थे की नेता जी अब नहीं रहे और नेता जी का स्वस्थ नाजुक है पर कोई इसलिए नहीं कह पा रहा था की मेडिकल हेल्थ बुलेटिन जारी नहीं हुआ था खैर आप को बता दे की वो राजनीतिक क्षेत्र के वह एक पुरोधा माने जाते थे.

फिल्‍म इंडस्‍ट्री से भी उनका खास कनेक्‍शन रहा. वह अमिताभ बच्‍चन (Amitabh Bachchan) और उनके परिवार के साथ करीबी संबंधों को लेकर हमेशा चर्चा में रहे. उनके बीच की नजदीकियों को बयां करने वाले कई किस्‍से हैं. इनमें से एक से आपको रूबरू कराकर उनकी दोस्‍ती को याद करते हैं.

ये थे दोनों की दोस्ती के मीडियेटर

आज नेता जी के साथ अमर सिंह भी याद आ रहे है दोनों के बीच अंतिम समय तक बहुत अच्छी ट्विनिंग रही है और आप को बता दे की अमिताभ और नेता जी की दोस्ती की वजह भी अमर सिंह बने थे

यह तो सभी जानते है की अमिताभ और मुलायम की दोस्‍ती की वजह अमर सिंह बने थे. उनकी वजह से ही दोनों एक दूसरे के करीब आए थे. शुरुआत में अक्‍सर तीनों एक साथ नजर आते थे. धीरे-धीरे मुलायम और अमिताभ के बीच जबरदस्‍त बॉन्डिंग बन गई और फिर वे एक दूसरे के घर भी आने-जाने लगे.

नेता जी ने अमिताभ को बनाया था ब्रांड एंबेसडर

कहते हैं कि मुलायम के कहने पर ही अमिताभ यूपी के ब्रांड एंबेसडर बने थे. उनकी वाइफ व एक्‍ट्रेस जया बच्‍चन भी मुलायम की पार्टी से ही सांसद रही और जनि भी जाती है लाल टोपी वाली पहचान जया की .अमिताभ और उनके परिवार के लिए मुलायम के दिल में कितनी खास जगह थी, इसको समझने के लिए एक वाकया ही काफी है जब कुछ ऐसा हुआ था कि मुलायम अपना सारा काम छोड़कर अमिताभ के घर दौड़ पड़े थे. कारण ही कुछ ऐसा था कि वह खुद को रोक नहीं पाए और किसी तरह उनके पास पहुंच गए.

आप को बता दें की जब हरिवंशजी की तबीयत हुई थी खराब

बर्ष 1994 में मुलायम (Mulayam Singh Yadav) ने यश भारती सम्‍मान की शुरुआत की थी. एक साल पहले वह दूसरी बार यूपी के मुख्‍मंत्री बने थे. अमिताभ (Amitabh Bachchan) के पिता हरिवंश राय बच्‍चन को भी इस सम्‍मान से नवाजा जाना था. इसके लिए लखनऊ में आयोजन में शामिल होना था, मगर अचानक से अमिताभ के पिता की तबीयत बिगड़ गई और वह समारोह में शामिल नहीं हो सके. जैसे ही यह खबर जब मुलायम तक पहुंचीं तो वह तुरंत अपना सब काम छोड़कर अमिताभ के घर पहुंच गए और वहीं हरिवंश राय जी को सम्‍मानित किया. तो ऐसी थी अमिताभ से मुलायम की मित्रता, जो अब यादों का हिस्‍सा है.

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments