Thursday, July 25, 2024
uttarakhandekta
Homeउत्तराखंडगुरूकुल कांगडी समविश्वविधालय के कुलपति बने प्रो. अम्बुज शर्मा, ग्रहण किया पदभार

गुरूकुल कांगडी समविश्वविधालय के कुलपति बने प्रो. अम्बुज शर्मा, ग्रहण किया पदभार

हरिद्वार प्रो. अम्बुज शर्मा ने बुधवार को गुरूकुल कांगडी समविश्वविधालय के कुलपति पद का कार्यभार कुलपति प्रो. सोमदेव शतान्शु से कुलपति कार्यालय में गृहण किया। विदित हो कि प्रो. सोमदेव शतान्शु 31 मई को समविश्वविद्यालय की कुलपति सेवाओ से सेवानिवृत हो रहे है। वह विश्वविद्यालय के संस्कृत विभाग मे प्रोफेसर के मूल पद पर कार्यरत है। उनके स्थान पर विश्वविधालय के वरिष्ठ प्रो. अम्बुज शर्मा ने सेवानिवृत हो रहे कुलपति से कार्यभार गृहण किया। प्रो. शर्मा विश्वविधालय में अंग्रेजी विभाग में वरिष्ठ प्रोफेसर के पद पर कार्यरत हैं। उनके निर्देशन मे विभिन्न छात्रो ने अग्रेजी साहित्य में शोध उपाधि प्राप्त की है, तथा देश के नामचीन शिक्षण संस्थानों व विभिन्न प्रशासनिक पदो पर कार्य कर रहे है।
इस अवसर पर बुधवार को कुलपति कार्यालय पहुच प्रो.सोमदेव शतान्शु ने प्रो. अम्बुज शर्मा को कार्यभार सौपते हुए कहा कि उन्होने अपने कार्यकाल के दौरान विश्वविधालय को शिक्षा के क्षेत्र में उन्नति के पथ पर ले जाने की दिशा में कार्य किये इस दौरान उन्हे विश्वविधालय के सभी शिक्षको शिक्षकेत्तर कर्मचारियो व अन्य अधिकारियों का पूर्ण सहयोग मिला जिसके लिए वह सभी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि प्रो. अम्बुज शर्मा के नेतृत्व में विश्वविधालय शिक्षा के क्षेत्र में नये मानक स्थापित करेगा।
इस अवसर पर विश्वविधालय के कुलसचिव प्रो. सुनील कुमार ने कहा कि कुलपति प्रो. सोमदेव शतान्शु के नेतृत्व में विश्वविधालय ने शिक्षा के क्षेत्र में विभिन्न नये आयाम स्थापित किये गये। वही प्रशासनिक मुददो पर महत्वपूर्ण निर्णय विश्वविधालय हित में लिये गये। उन्होने नये कुलपति का स्वागत करते हुए कहा कि विश्वविधालय के वरिष्ठ प्रो. अम्बुज शर्मा के कुलपति के रूप में विश्वविधालय नये मानक शिक्षा के क्षेत्र में स्थापित करेगा।
इस अवसर पर कार्यभार संभाले के बाद कुलपति प्रो. अम्बुज शर्मा ने कहा कि वह सभी को साथ लेकर विश्वविधालय हित में कार्य करेगें। उन्होने कहा कि प्रशासनिक व्यवस्था के चलते उन्हे जो दायित्व सौपा गया है उसे वह सभी शिक्षक व शिक्षकेत्तर कर्मचारियो के साथ पूर्ण करेगें।
इस अवसर पर प्रो. विवेक गुप्ता प्रो. एल पी पुरोहित प्रो. देवेन्द्र गुप्ता प्रो. हेमलता के संयुक्त कुलसचिव देवेन्द्र कुमार डा रीना वर्मा डा अजीत तोमर डा मंजूषा कौशिक प्रमोद कुमार जनसम्पर्क अधिकारी डा पंकज कौशिक शशिकान्त शर्मा कुलभूषण शर्मा प्रकाश चन्द तिवारी कुलदीप कुमार हेमन्त नेगी नवीन कुमार वीरेन्द्र पटवाल अरविन्द शर्मा सेठपाल विजय प्रताप ंिसह सहित विभिन्न शिक्षक व शिक्षकेत्तर कर्मचारी उपस्थित रहे।

RELATED ARTICLES

1 COMMENT

  1. Here are some tips for writing a great letter of recommendation:

    Be specific: Don’t just say that the applicant is a good student or worker. Give specific examples of their accomplishments and contributions.
    Be personal: The writer should share their experiences with the applicant and explain why they believe in the applicant’s potential.
    Be honest: The writer should be honest about the applicant’s strengths and weaknesses. However, it’s essential to focus on the applicant’s strengths and how they will benefit the program or position they are applying for.
    Be positive: The letter should be written positively and enthusiastically. The writer should convey their belief in the applicant’s potential and excitement about their future.
    Be professional: The letter should be well-written and free of errors. The writer should use proper grammar and punctuation, and they should avoid using informal language.
    Provide the writer with materials: Give the writer your resume, transcripts, and any other materials they may need to write a strong letter.
    Be clear about what you want: Let the writer know what you are looking for in a letter of recommendation. Do you want them to focus on your academic achievements?

    https://mailchi.mp/163a926492ea/what-is-lor-certificate

Comments are closed.

Most Popular

Recent Comments