Thursday, July 25, 2024
uttarakhandekta
Homeउत्तराखंडदेश की लगभग सभी नगरपालिकाओं का यही कहना है कि जैसे ही...

देश की लगभग सभी नगरपालिकाओं का यही कहना है कि जैसे ही कर्मचारी कुत्ते को पकड़ने जाते हैं, उनके पास केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी के एनजीओ वालों का फोन आ जाता है!

तो कभी उनके कार्यालय से भी फोन आ जाता है. तो फिर अफसर क्या करें, उन्होंने भी हाथ खड़े कर दिए. आवारा कुत्तों की वजह से लोगों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. सुबह और शाम के वक्त जब बुजुर्ग और बच्चे टहलने या खेलने जाते हैं तो उन्हें आवारा कुत्ते काट लेते हैं, या गिरा देते हैं.

सन् 2021 में वरिष्ट पत्रकार आलोक मेहता ने भाजपा सांसद मेनका गांधी को ट्विटर पर टैग करते हुए लिखा कि कुत्तों को इंसान से ज़्यादा अधिकार है।

उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, “दिल्ली में आवारा कुत्तों ने एक मासूम बच्ची को नोचकर मार दिया। हर इलाक़े में सड़कों पर कुत्तों का आतंक है मेनका गांधी की कृपा से कुत्तों को इंसान से ज़्यादा अधिकार। नगर निगमों ने कुत्तों को पकड़ना बंद कर दिया।

मोहल्ला क्लिनिक में कुत्ते काटने की दवाई नहीं।”
पत्रकार हर्षवर्धन त्रिपाठी ने इसे गंभीर मामला बताया। उन्होंने आलोक मेहता के ट्वीट पर लिखा, “अत्यंत गम्भीर है सर, लेकिन सरकार से लेकर समाज तक मनुष्य से अधिक कुत्ताप्रेमी हो गया है। इस तेज़ी से संख्या बढ़ रही है कि आने वाले दिनों में ऐसे दर्दनाक हादसे बढ़ेंगे। हमारी सोसायटी तक में कुत्तों ने बुरा हाल कर रखा है। देसी सड़क पर और घरों में विदेशी कुत्ते मनुष्य पर भारी पड़ रहे।”

इसका कभी कोई जवाब देखने और सुनने में नहीं आया था।

समस्या का कोई निदान न देकर सिर्फ़ अपने एनजीओ से फ़ोन करवाना और किसी इंसान की पीड़ा से कन्नी काटना कहाँ की मनुष्यता है।

अगर आपको कुत्तों की इतनी चिंता है तो अपने NGO को भेज कर उन्हें अपने पशुप्रेमी समुदाय के साथ रहने का निर्देश दें।

ज़ैसे जैसे शहरों का विस्तार हो रहा है आवारा कुत्तों की समस्या भी ज़ोर पकड़ रही है। यदि स्थानीय सरकारें इसी प्रकार पशु प्रेमियों की बंधक बन जाती हैं तो आम आदमी जिसकी कोई पहुँच नहीं है वह क्या कर सकता है।

कभी यह विडिओ भी खूब वाइरल हुआ था आवारा कुत्तों के चहतों का
बैरहाल समाज में पहले इंसान की सुननी चाहिए ना की जानबरों की

यह भी पढ़े :पैसिफ़िक गोल्फ एस्टेट में आवारा कुत्तों का आतंक

RELATED ARTICLES

2 COMMENTS

  1. गाँधी परिवार की छोटी बहु के NGOके इन जंगली जानबरों पर कीजाने वाली कार्यवाही पर सरकार चुप क्यों रहती है
    यह समस्या हर प्रदेश में है मुहल्लों से लेकर स्कूल जाने के रास्तों में बच्चे सुरक्षित नहीं है

  2. This is really sad that in maneka gandhi opinion human life has no value…in our society stray dogs are biting everyday to someone but govt as well as management is not taking any action bcoz of this dog lover mp i request hon’ ble PM to remove her from her post immediately and arrange for some solution to this problem

Comments are closed.

Most Popular

Recent Comments

MiclBow on